योग एक आध्यात्मिक विज्ञान है, जिससे शरीर का समग्र विकास होता है. यदि किसी को अपनी एकाग्रता शक्ति बढ़ानी है, तो उसके लिए कई विशेष योग निर्धारित किए गए हैं. इन योग में से एक है त्राटक योग, जिसके अनेक स्वास्थ्य लाभ हैं.

परंपरागत रूप से योगियों द्वारा न केवल आंखों पर इसके लाभकारी प्रभावों के लिए, बल्कि एकाग्रता में सुधार पर इसके जबरदस्त प्रभाव के लिए भी विभिन्न तरीकों से इसका अभ्यास किया जाता है. सिरदर्द, अनिद्रा, एकाग्रता को बढ़ाने के लिए आप इस योग का सहारा ले सकते हैं.

(और पढ़ें - गहरी सांस लेने के फायदे)

इस लेख में हम त्राटक योग का अर्थ, प्रक्रिया और फायदे के बारे में जानेंगे-

  1. त्राटक योग क्या है?
  2. त्राटक कितने प्रकार के होते हैं?
  3. त्राटक योग की प्रक्रिया
  4. त्राटक योग से जुड़ी विशेष बातें
  5. त्राटक योग के लाभ
  6. सारांश
त्राटक योग : विधि, प्रक्रिया और लाभ के डॉक्टर

त्राटक योग ध्यान का एक रूप है, जिसे 'एकाग्र दृष्टि' के रूप में भी जाना जाता है. इसे आमतौर पर 'कैंडल ग्लेजिंग' यानी मोमबत्ती देखने वाले योग के रूप में जाना जाता है. त्राटक मूल रूप से षट्कर्म का भाग है. यह आंतरिक अंगों को शुद्ध करने के लिए उपयोग है.

त्राटक योग का उपयोग सबसे पहले मन की अस्थिरता को दूर करने और एकाग्रता को बढ़ावा देने के साथ-साथ आंखों की मांसपेशियों को मजबूत करने के लिए किया जाता है. त्राटक योग के अभ्यास को मुक्ति और मोक्ष के मार्ग की तैयारी के लिए बताए गए छह षट्कर्म में से एक माना गया है.

जब त्राटक योग का अभ्यास करने की बात आती है, तो इसे करने के कई तरीके हैं. चाहे उसका बौद्ध-प्रभावित श्वास-केंद्रित ध्यान हो, मंत्र के साथ वैदिक ध्यान हो या आपकी शारीरिक संवेदनाओं का ध्यानपूर्वक अवलोकन करना हो.

(और पढ़ें - कपालभाती प्राणायाम करने का तरीका)

त्राटक योग का आरंभ 15वीं शताब्दी से माना जाता है. इसे हठयोग का हिस्सा माना गया है. इसके तहत दो अलग-अलग प्रकार के त्राटक योग का परिचय मिलता है-

  • बहिरंगा त्राटक या 'बाहरी केंद्रित अवलोकन'
  • अंतरांग त्राटक या 'आंतरिक केंद्रित अवलोकन'

(और पढ़ें - भ्रामरी प्राणायाम करने का तरीका)

त्राटक योग को करने की प्रक्रिया सरल और चरणबद्ध है, जिसे आसानी से घर में भी किया जा सकता है. आप निम्नलिखित चरणों का पूर्ण रूप से पलान करके इस योग को नियमित रूप से कर सकते हैं. इससे आपके शरीर को काफी लाभ होगा-

  • इस योग को करने के लिए सबसे पहले मोमबत्ती जलाएं और इसे आंखों के स्तर पर रखें, सुनिश्चित करें कि मोमबत्ती की लौ हवा के कारण हिले नहीं.
  • हाथों को घुटनों पर रखकर आरामदायक ध्यान मुद्रा में बैठें. शरीर को आराम देने के लिए धीरे-धीरे सांस लें.
  • अब आंखें बंद करें और कुछ सेकंड बाद धीरे-धीरे आंखें खोलें और बिना पलक झपकाए मोमबत्ती की लौ एकटक देखने की कोशिश करें.
  • आंखों पर दबाव डाले बिना, जितना संभव हो सके लौ को देखते रहें और फिर जरूरत पड़ने पर आंखें बंद कर दें.
  • आंखें बंद करके अपना पूरा ध्यान भौंहों के केंद्र की ओर करें. इस अवस्था में ही मस्तिष्क में मोमबत्ती की लौ की कल्पना करें औी उस पर ध्यान केंद्रित करें. साथ ही बंद आंखों से नजर आने वाले किसी भी रंग का अध्ययन करें.
  • जब मस्तिष्क के भीतर उभरने वाली छवि गायब हो जाए, तो इस प्रक्रिया को 5-10 मिनट तक जारी रखें.
  • यदि मन भटकता है, तो श्वास पर ध्यान केंद्रित करें.

(और पढ़ें - भस्त्रिका प्राणायाम करने का तरीका)

त्राटक योग करते समय इन बातों पर गौर करना जरूरी है-

  • त्राटक योग खाली पेट और प्राणायाम अभ्यास के बाद सुबह 4-6 बजे के बीच अधिक प्रभावी है. 
  • आप रात में सोने से पहले भी इस योग का अभ्यास कर सकते हैं.
  • त्राटक योग का अभ्यास करते समय इस बात का ध्यान रखें कि कमरा न तो रोशनी से भरा हो और न ही उसमें बहुत अंधेरा हो.
  • प्रतिदिन 10-15 मिनट इसका अभ्यास किया जा सकता है.
  • ग्लूकोमा जैसे गंभीर नेत्र विकार होने पर त्राटक योग नहीं करना चाहिए. इसके अलावा, सिजोफ्रेनिया या मतिभ्रम जैसी मानसिक समस्याओं से ग्रस्त लोगों के लिए त्राटक योग उपयुक्त नहीं है.

(और पढ़ें - अनुलोम-विलोम प्राणायाम करने के फायदे)

त्राटक योग मुख्य रूप से एकग्रता शक्ति को बढ़ने में बेहद प्रभावी माना जाता है, लेकिन इसके अन्य शारीरिक एवं मानसिक लाभ भी हैं, जैसे -

  • यह आंखों को शुद्ध करता है और एक बिंदु पर ध्यान केंद्रित करने के लिए व्यायाम करके आंखों की मांसपेशियों को मजबूत कर सकता है.
  • इस योग के नियमित अभ्यास से निकट दृष्टि दोष को ठीक किया जा सकता है.
  • त्राटक योग दृष्टि, एकाग्रता और स्मृति में सुधार करता है, इसलिए स्कूली बच्चों को इस योग का अभ्यास जरूर करना चाहिए.
  • त्राटक योग के जरिए नींद से संबंधित विकारों, जैसे- सिरदर्द, अनिद्रा व बुरे सपने आदि को भी ठीक किया जा सकता है.  
  • त्राटक योग का नियमित रूप से अभ्यास करने से बेचैन मन शांत हो सकता है.
  • यह विभिन्न तरह की मानसिक, व्यवहारिक और भावनात्मक बीमारियों को दूर करने में भी मदद कर सकता है. 
  • त्राटक योग से आपका आत्मविश्वास, धैर्य और इच्छाशक्ति को बढ़ावा मिलता है.

(और पढ़ें - शीतकारी प्राणायाम करने के फायदे)

त्राटक योग प्रभावी और लाभकारी विशेष योग है. इसके माध्यम से आप अपनी एकाग्रता शक्ति को बढ़ा सकते हैं. अगर आपको ध्यान केंद्रित करने में दिक्कत होती है, तो यह योग आपके लिए असरदार साबित हो सकता है. बस ध्यान रहे कि मतिभ्रम जैसी गंभीर मानसिक बीमारी से ग्रसित व्यक्ति को इस योग को नहीं करना चाहिए. पूर्ण असर के लिए त्राटक योग को चरणबद्ध तरीके से करें. इसके लिए आप एक कुशल योग प्रशिक्षक से परामर्श लें सकते हैं.

(और पढ़ें - शीतली प्राणायाम करने के फायदे)

शहर के योग ट्रेनर खोजें

  1. पूर्वी सिक्किम के योग ट्रेनर
Dr. Smriti Sharma

Dr. Smriti Sharma

योग
2 वर्षों का अनुभव

ऐप पर पढ़ें