हॉर्स चेस्टनट (एस्कुलस हिप्पोकैस्टेनम) एक गुणकारी पेड़ है. हॉर्स चेस्टनट खून को पतला करने का काम करता है. साथ ही वाटर रिटेंशन से बचाता है. ब्लड सर्कुलेशन को बेहतर करने और क्रोनिक वैरिकाज वेंस के ट्रीटमेंट के लिए भी हॉर्स चेस्टनट के अर्क का सेवन किया जा सकता है. इसके सेवन के कुछ नुकसान भी हैं, जैसे - सिरदर्द, चक्कर आना, पेट खराब होना और खुजली आदि. इसीलिए, हॉर्स चेस्टनट को 300-600 मिलीग्राम की मात्रा में दो से तीन महीने तक ही लिया जा सकता है.

आज इस लेख में आप हॉर्स चेस्टनट के फायदे, नुकसान और मात्रा के बारे में जानेंगे -

(और पढ़ें - गुलमोहर पेड़ के फायदे)

  1. हॉर्स चेस्टनट के फायदे
  2. हॉर्स चेस्टनट के नुकसान
  3. हॉर्स चेस्टनट की मात्रा
  4. सारांश
हॉर्स चेस्टनट के फायदे व नुकसान के डॉक्टर

हॉर्स चेस्टनट बीज के अर्क का उपयोग आमतौर पर इरिटेबल बाउल सिंड्रोम व पुरुष इनफर्टिलिटी जैसी समस्याओं के लिए भी किया जाता है. आइए, हॉर्स चेस्टनट के फायदों के बारे में विस्तार से जानते हैं -

क्रोनिक वीनस इंसफिशिएंसी

क्रोनिक वीनस इंसफिशिएंसी आमतौर पर तब होती है, जब व्यक्ति की नसें सही से काम करने में सक्षम नहीं होती. नतीजन, नसें रक्त को हृदय तक पर्याप्त मात्रा में लेकर नहीं जा पाती हैं. इससे व्यक्ति में वैरिकाज वेंस की समस्या हो जाती है. वहीं, हॉर्स चेस्टनट में वासोप्रोटेक्टिव (vasoprotective) गुण होता है, जो नसें के आकार में सुधार करता है और रक्त को पंप करके वापस हृदय में भेजने में मदद करता है.
एक रिसर्च में हॉर्स चेस्टनट के अर्क को क्रोनिक वीनस इंसफिशिएंसी का इलाज करने के लिए सुरक्षित माना गया है. साथ ही यूरोपियन मेडिसिन एजेंसी (ईएमए) भी इस बात की पुष्टि करता है कि हॉर्स चेस्टनट का अर्क क्रोनिक वीनस इंसफिशिएंसी के इलाज में उपयोगी हो सकता है.

(और पढ़ें - बरगद के पेड़ के फायदे)

बवासीर

हॉर्स चेस्टनट के फायदों को देखते हुए कुछ रिसर्च में ये बात साबित हुई है कि हॉर्स चेस्टनट बवासीर को ठीक करने के काम आ सकता है. फिलहाल, इस तथ्य की पुष्टि के लिए और रिसर्च किया जा रहा है.

(और पढ़ें - देवदार के पेड़ के फायदे)

पुरुष इनफर्टिलिटी में फायदेमंद

द नेशनल सेंटर फॉर कंप्लीमेंट्री एंड इंटेरोगेटिव हेल्थ (एनसीसीआईएच) की रिपोर्ट के मुताबिक, शोधकर्ताओं ने रिसर्च में पाया कि हॉर्स चेस्टनट के बीच के अर्क से वैरिकोसेले के कारण होने वाले पुरुष बांझपन का इलाज किया जा सकता है. ये वो स्थिति है जब अंडकोष के अंदर की नसों में सूजन आ जाती है. फिलहाल, इस पर और रिसर्च होना बाकी है.

(और पढ़ें - साल के पेड़ के फायदे)

एंटी-इंफ्लेमेटरी व हाइपोग्लाइसेमिक प्रभाव

2021 के एक रिसर्च के मुताबिक, उज्बेकिस्तान में उगने वाले हॉर्स चेस्टनट में एंटीइंफ्लेमेटरी और हाइपोग्लाइसेमिक इफेक्ट्स पाए गए. शोधकर्ताओं ने पाया कि ऐसे में हॉर्स चेस्टनट से डायबिटीज व सूजन की दवाएं बनाई जा सकती हैं. साथ ही इसमें मौजूद थ्रोम्बोएम्बोलिज्म नामक कंपाउंड वायरस और कैंसर से बचाने की क्षमता रखता है.
2022 की एक अन्य लैब स्टडी के मुताबिक, हॉर्स चेस्टनट का अर्क घाव को भरने और स्किन कैंसर के प्रभाव को कम करने मददगार हो सकता है. फिलहाल, इसका मनुष्यों पर टेस्ट होना बाकी है.

(और पढ़ें - पीपल के पेड़ के फायदे)

एंटीऑक्सीडेंट गुण

हॉर्स चेस्टनट सीड एक्सट्रैक्ट फ्लेवोनोइड, क्वेरसेटिन और केम्पफेरोल जैसे कंपाउंड से भरपूर होता है, जो पॉवरफुल एंटीऑक्सीडेंट गुणों से भरपूर होते हैं. ये कंपाउंड फ्री रेडिकल्स के कारण होने वाले सेल डैमेज से बचाते हैं. फ्री रेडिकल्स सूजन और सेलुलर के डैमेज होने का कारण बनते हैं.

(और पढ़ें - अशोक के पेड़ के फायदे)

हॉर्स चेस्टनट बीज के अर्क को यूं तो आसानी से पचाया जा सकता है, लेकिन इसके सेवन से कुछ साइड इफेक्ट्स भी हो सकते हैं -

मतली व पेट खराब

द नेशनल सेंटर फॉर कंप्लीमेंट्री एंड इंटेरोगेटिव हेल्थ के मुताबिक, हॉर्स चेस्टनट का सेवन करने से कई समस्याएं हो सकती हैं, जैसे - मतलीपाचन तंत्र खराब होनाचक्कर आनासिरदर्द होना, एलर्जिक रिएक्शंस, खुजली व वर्टिगो. इसके अलावा, इसे स्किन पर अप्लाई करने से एलर्जी भी हो सकती है.

(और पढ़ें - कदम के पेड़ के फायदे)

गर्भावस्था व स्तनपान में नुकसानदायक

गर्भवती और स्तनपान करवाने वाली महिलाओं को हॉर्स चेस्टनट का किसी भी रूप में सेवन करने की सलाह नहीं दी जाती.

(और पढ़ें - गंभारी के फायदे)

किडनी व लिवर रोग

किडनी और लिवर रोग से पीड़ि‍त लोगों को हॉर्स चेस्टनट का सेवन नहीं करना चाहिए, क्योंकि इसके सेवन से किडनी और लिवर रोग के लक्षण बिगड़ सकते हैं.

(और पढ़ें - सेमल खाने के फायदे)

दवा के साथ रिएक्शन

हॉर्स चेस्टनट के सेवन के साथ अन्य दवाओं का सेवन नुकसानदायक हो सकता है. इसे ब्लड थिनर की दवा, जैसे - कौमामिन के साथ लेने पर ब्‍लड क्लॉटिंग की प्रक्रिया धीमी हो सकती है. इसके अलावा, डायबिटीज की दवा व सूजन के इलाज के लिए ली जाने वाली एनएसएआईडी के साथ भी हॉर्स चेस्टनट को लेना नुकसानदायक हो सकता है.

(और पढ़ें - अंकोल के फायदे)

आमतौर पर व्यस्कों में हॉर्स चेस्टनट अर्क का सेवन 8 से 12 सप्ताह के लिए 300-600mg किया जाता है. हॉर्स चेस्टनट के सिर्फ उसी प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करना चाहिए, जिसमें एस्क्यूलिन नामक टॉक्सिक केमिकल रिमूव कर दिया गया हो. इसके अलावा, डॉक्टर मरीज की उम्र और बीमारी के हिसाब से हॉर्स चेस्टनट की दवा, सप्लीमेंट, अर्क या लिक्वि‍ड लेने के लिए कह सकते हैं.

(और पढ़ें - झाऊ के फायदे)

हॉर्स चेस्टनट एक पेड़ है, जिसमें एस्क्यूलिन नामक टॉक्सिक केमिकल होता है. इस केमिकल को रिमूव करके ही इसके प्रोडक्ट बनाए जाते हैं. हॉर्स चेस्टनट के बीजों के अर्क को खासतौर पर इस्तेमाल किया जाता है. इसमें मौजूद एस्किन कंपाउंड एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों से भरपूर होता है. हॉर्स चेस्टनट का खासतौर पर इस्तेमाल वैरिकाज वेंस, क्रोनिक वीनस इंसफिशिएंसी व बवासीर के इलाज के तौर पर किया जा सकता है. वहीं, हॉर्स चेस्टनट के सेवन से खराब पाचन तंत्र, चक्कर आना व मतली होने की समस्या हो सकती है.

(और पढ़ें - महुआ के फायदे)

Dr Sanjay K Tiwari

Dr Sanjay K Tiwari

आयुर्वेद
3 वर्षों का अनुभव

Dr. Priyanka Jha

Dr. Priyanka Jha

आयुर्वेद
2 वर्षों का अनुभव

Dr. Anadi Mishra

Dr. Anadi Mishra

आयुर्वेद
14 वर्षों का अनुभव

Dr Shubhra Srivastava

Dr Shubhra Srivastava

आयुर्वेद
20 वर्षों का अनुभव

ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ