आजकल कई कपल बांझपन यानी इनफर्टिलिटी का सामना कर रहे हैं. एक रिसर्च की मानें, तो लगभग 20 प्रतिशत कपल गर्भधारण करने में असमर्थ होते हैं. ऐसे में खानपान और हेल्दी लाइफस्टाइल की मदद से फर्टिलिटी को बढ़ाया जा सकता है, लेकिन कुछ स्थितियों में फर्टिलिटी बढ़ाने के लिए दवाइयों की जरूरत पड़ती है. प्रजनन क्षमता की दवाइयां महिलाओं को गर्भधारण करने में मदद कर सकती हैं. प्रजनन दवाइयां उन महिलाओं के लिए फायदेमंद हो सकती हैं, जो 12 महीने या उससे अधिक समय तक तमाम कोशिशों के बाद भी कंसीव नहीं कर पाती है. इन दवाइयों को फर्टिलिटी ड्रग्स के नाम से जाना जाता है. जहां, इन दवाओं के फायदे हैं, वहीं कुछ नुकसान भी हैं.

आज इस लेख में आप महिलाओं की प्रजनन क्षमता के लिए दवाइयों के फायदे और नुकसान के बारे में विस्तार से जानेंगे -

(और पढ़ें - प्रजनन क्षमता बढ़ाने वाले आहार)

  1. महिलाओं की प्रजनन क्षमता के लिए दवाइयों के फायदे
  2. महिलाओं की प्रजनन क्षमता के लिए दवाइयों के नुकसान
  3. सारांश
महिलाओं की प्रजनन क्षमता के लिए दवाओं के फायदे व नुकसान के डॉक्टर

जब कोई महिला गर्भधारण नहीं कर पाती है, तो ऐसे में डॉक्टर महिलाओं को प्रजनन क्षमता बढ़ाने वाली दवाइयां खाने को दे सकते हैं. इससे महिलाएं इनफर्टिलिटी के लक्षणों को कम करके गर्भधारण कर सकती हैं. महिलाओं की प्रजनन क्षमता बढ़ाने वाली दवाइयों के फायदे -

ओवुलेशन को बढ़ावा

प्रजनन क्षमता की दवाइयां ओवुलेशन को बढ़ावा देने में मदद कर सकती हैं. दरअसल, जो महिलाएं ओवुलेट नहीं कर पाती हैं, उन्हें प्रजनन क्षमता की दवाइयां दी जाती हैं. ये दवाइयां ओवुलेशन में आने वाली बाधाओं को ठीक करने में मदद कर सकती हैं. आपको बता दें कि बांझपन से पीड़ित लगभग 4 में से 1 महिला को ओवुलेशन की समस्या होती है. ऐसे में प्रजनन क्षमता की दवाइयां ओवुलेट करने में मदद कर सकती हैं.

(और पढ़ें - बांझपन के घरेलू उपाय)

पीसीओएस का इलाज

कुछ महिलाएं पीसीओएस का शिकार हो जाती हैं. इस स्थिति में महिलाओं के शरीर में हार्मोन असंतुलित हो जाते हैं. साथ ही महिलाओं में इनफर्टिलिटी के भी लक्षण नजर आने लगते हैं. पीसीओएस महिलाओं में बांझपन का मुख्य कारण होता है. ऐसे में प्रजनन क्षमता की दवाइयां पीसीओएस के लक्षणों को कम करके गर्भधारण में मदद कर सकती हैं.

(और पढ़ें - फीमेल फर्टिलिटी पैनल)

इनफर्टिलिटी के लक्षण कम करे

अनियमित पीरियड्सथायराइड और अधिक वजन इनफर्टिलिटी यानी बांझपन के मुख्य कारण माने जाते हैं. प्रजनन दवाइयां इनफर्टिलिटी के लक्षणों को कम करने में सहायक होती हैं. जब इन लक्षणों में कमी आती है, तो महिला आसानी से गर्भधारण कर सकती है.

(और पढ़ें - बांझपन से छुटकारा पाने के लिए योग)

नियमित पीरियड्स

अनियमित मासिक धर्म इनफर्टिलिटी का मुख्य कारण होता है. जिन महिलाओं में पीरियड्स रेगुलर नहीं होते हैं, उन्हें बांझपन का सामना अधिक करना पड़ता है. ऐसे में प्रजनन दवाइयां पीरियड्स को रेगुलर करके फर्टिलिटी को बढ़ाने में मदद करती हैं. जब पीरियड्स रेगुलर हो जाते हैं, तो गर्भधारण करने की संभावना कई गुना बढ़ जाती है.

(और पढ़ें - महिला किस उम्र तक मां बन सकती है)

अंडों की संख्या बढ़ाए

एक सामान्य मासिक धर्म के दौरान एक महिला केवल एक अंडा छोड़ती है. प्रजनन दवाइयों का उपयोग करके अंडों की संख्या को बढ़ाया जा सकता है. कहा जा सकता है कि एक महिला द्वारा उत्पादित अंडों की संख्या बढ़ाने के लिए प्रजनन दवाओं का उपयोग किया जा सकता है.

(और पढ़ें - इनफर्टिलिटी किस विटामिन की कमी से होती है)

अगर कोई महिला भविष्य में गर्भवती होना चाहती है, तो वो Myupchar Ayurveda Prajnas का सेवन आज से शुरू कर सकती हैं. इस प्राकृतिक दवा को खरीदने के लिए अभी नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें -

अगर महिलाएं प्रजनन क्षमता बढ़ाने वाली दवाइयों को डॉक्टर की सलाह पर लेती हैं, तो इससे शायद ही कोई गंभीर नुकसान होता है, लेकिन प्रजनन क्षमता की दवाइयां लेने के बाद कुछ हल्के साइड इफेक्ट्स जरूर नजर आ सकते हैं. इसमें शामिल हैं -

इसके अलावा, प्रजनन दवाइयां ओवेरियन और एंडोमेट्रियल कैंसर के जोखिम का कारण बन सकती हैं.

(और पढ़ें - बांझपन की आयुर्वेदिक दवा)

प्रजनन दवाइयों की मदद से महिलाओं को गर्भधारण करने में मदद मिल सकती है. प्रजनन दवाइयां इनफर्टिलिटी के लक्षणों को कम करके कंसीव करने में मदद करती हैं. ये दवाइयां ओवुलेशन को बढ़ावा देती हैं, साथ ही पीरियड्स रेगुलर में भी मदद करती है. अगर आप कंसीव नहीं कर पा रही हैं, तो डॉक्टर की सलाह पर प्रजनन दवाइयां ले सकती हैं, लेकिन कोई भी दवा बिना डॉक्टर की सलाह के बिल्कुल न लें.

(और पढ़ें - गर्भवती होने के घरेलू उपाय)

Dr. Swati Rai

Dr. Swati Rai

प्रसूति एवं स्त्री रोग
10 वर्षों का अनुभव

Dr. Bhagyalaxmi

Dr. Bhagyalaxmi

प्रसूति एवं स्त्री रोग
1 वर्षों का अनुभव

Dr. Hrishikesh D Pai

Dr. Hrishikesh D Pai

प्रसूति एवं स्त्री रोग
39 वर्षों का अनुभव

Dr. Archana Sinha

Dr. Archana Sinha

प्रसूति एवं स्त्री रोग
15 वर्षों का अनुभव

ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ