वैसे तो थकान किसी को भी हो सकती है, लेकिन पुरुषों की तुलना में महिलाओं को अधिक थकान का सामना करना पड़ता है. आजकल ज्यादातर महिलाओं के लिए खुद के लिए समय निकाल पाना मुश्किल हो जाता है. ऐसे में वो सही आदतों, दिनचर्या और डाइट को फॉलो नहीं कर पाती हैं. इसकी वजह से महिलाओं को पोषक तत्वों की कमी का सामना करना पड़ सकता है और थकान होने लगती है. इसके अलावा भी कई ऐसे कारण हैं, जो थकान पैदा कर सकते हैं, जैसे - थायराइड व विटामिन-डी की कमी आदि. ऐसे में थकान को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए.

आज इस लेख में आप महिलाओं में थकान के कारण और इलाज के बारे में विस्तार से जानेंगे -

(और पढ़ें - थकान दूर करने के घरेलू उपाय)

  1. महिलाओं में थकान के कारण
  2. आयरन की कमी
  3. महिलाओं में थकान का इलाज
  4. सारांश
महिलाओं में थकान के कारण व इलाज के डॉक्टर

कई महिलाएं बार-बार थका हुआ महसूस करती हैं. महिलाओं को थकान कुछ मेडिकल कंडीशन या फिर जीवनशैली की वजह से हो सकती है. महिलाओं में थकान के कारण निम्न हो सकते हैं -

थायराइड की समस्या

अगर किसी महिला को थायराइड है, तो वह अधिक थकान महसूस कर सकती है. आपको बता दें कि थायराइड एक तितली के आकार की ग्रंथि होती है, जो हार्मोन का उत्पादन करती है. जब थायराइड ग्रंथि सही तरीके से काम नहीं करती है, तो हाइपोथायरायडिज्म या हाइपरथायरायडिज्म हो सकता है. इनकी वजह से महिलाओं को गंभीर थकान और कमजोरी महसूस हो सकती है.

(और पढ़ें - हमेशा थकान महसूस होने का इलाज)

हृदय रोग

हृदय रोग भी महिलाओं में थकान का कारण बन सकते हैं. अगर किसी को कोई हृदय रोग है, तो उसे बार-बार थका हुआ महसूस हो सकता है. दरअसल, हृदय रोग होने पर हृदय सही तरीके से रक्त को पंप नहीं कर पाता है. इसकी वजह से शरीर को पर्याप्त रक्त नहीं मिल पाता है. ऐसे में थोड़ा-सा काम करने के बाद ही थकान महसूस हो सकती है.

(और पढ़ें - थकान दूर करने के लिए क्या खाएं)

विटामिन-डी की कमी

आजकल अधिकतर लोगों में विटामिन-डी की कमी पाई जाती है. खासकर, महिलाओं में विटामिन-डी का स्तर कम होता है. शरीर में विटामिन-डी की कमी होने पर थकान महसूस हो सकती है. आपको बता दें कि कुछ लोगों का पाचन तंत्र विटामिन-डी को अच्छी तरह से अवशोषित नहीं कर पाता है. ऐसे में शरीर विटामिन-डी का इस्तेमाल सही से नहीं कर पाता है. इससे हड्डियां कमजोर होने लगती हैं. जब हड्डियां और मांसपेशियों में कमजोरी आती है, तो क्रोनिक थकान के लक्षण महसूस हो सकते हैं. कुछ अध्ययनों में साबित हुआ है कि विटामिन-डी की कमी क्रोनिक फटीग सिंड्रोम का कारण बन सकती है.

(और पढ़ें - मानसिक थकान का इलाज)

स्लीप एपनिया

वैसे तो पुरुषों को स्लीप एपनिया का सामना अधिक करना पड़ता है, लेकिन कुछ महिलाओं में भी स्लीप एपनिया के लक्षण दिख सकते हैं. स्लीप एपनिया होने पर व्यक्ति की रात में बार-बार सांस रुक जाती है. इसकी वजह से व्यक्ति तेज-तेज खर्राटे ले सकता है और नींद प्रभावित हो सकती है. स्लीप एपनिया वाले लोगों को नींद की कमी से जूझना पड़ता है. जब नींद पूरी नहीं होती है, तो व्यक्ति अगले दिन थकान महसूस कर सकता है.

(और पढ़ें - सुस्ती का इलाज)

नींद की कमी

अगर कोई महिला रोजाना पर्याप्त नींद नहीं ले रही है, तो उसे गंभीर थकान का सामना करना पड़ सकता है. कई महिलाएं सिर्फ 5 से 6 घंटे की नींद लेती हैं. अगर नींद पूरी नहीं होती है, तो आप थोड़ा-सा काम करके ही थकान महसूस हो सकती है.

(और पढ़ें - कमजोरी दूर करने के घरेलू उपाय)

तनाव

तनाव व चिंता का शिकार होना महिलाओं में आम है. जो महिलाएं तनाव में रहती हैं, उन्हें अन्य महिलाओं की तुलना में थकान होने की आशंका 4 गुना अधिक होती है. तनाव में रहने वाली महिलाओं को कमजोरी का सामना भी करना पड़ सकता है.

(और पढ़ें - अधिक थकान का इलाज)

आयरन की कमी शरीर में एनीमिया का कारण बन सकती है. एनीमिया महिलाओं में होने वाली एक आम समस्या होती है. एनीमिया होने पर अक्सर महिलाओं को थकान और कमजोरी महसूस होने लगती है. आपको बता दें कि एनीमिया होने पर शरीर में रेड ब्लड सेल्स का उत्पादन नहीं हो पाता है. इसकी वजह से हीमोग्लोबिन का स्तर कम हो जाता है और रक्त शरीर में पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं ले जा पाता है. ऐसे में महिलाएं अधिक थका हुआ महसूस कर सकती हैं.

(और पढ़ें - शारीरिक कमजोरी में क्या खाएं)

अगर कभी-कभार थकान रहती है, तो यह सामान्य हो सकता है. वहीं, अगर अक्सर ही थकान महसूस होती है, तो इस स्थिति में डॉक्टर से जरूर संपर्क करना चाहिए. थकान के कारण को जानकर ही डॉक्टर इसका इलाज कर सकते हैं -

  • अगर थायराइड की वजह से थकान होती है, तो डॉक्टर एंटीथायराइड दवा लिख सकते हैं. इससे थायराइड हार्मोन को संतुलन में रखने की कोशिश की जाती है.
  • अगर हृदय रोग है, तो इसका इलाज जरूरी होता है. थकान का इलाज करने के लिए ब्लड प्रेशर, ब्लड शुगर और कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रण की दवा दी जा सकती है.
  • अगर परिवार में किसी व्यक्ति को हृदय रोग है, तो अपने हृदय की जांच जरूर करवाएं.
  • थकान को दूर करने के लिए पूरी नींद लेना भी जरूरी होता है. इसके लिए 7 से 8 घंटे की नींद ली जा सकती हैं.
  • आयरन सप्लीमेंट भी थकान को दूर कर सकते हैं, क्योंकि इससे रेड ब्लड सेल्स का निर्माण होता है और शरीर को पर्याप्त ऑक्सीजन मिल पाती है.
  • अगर मोटापे से परेशान हैं, तो वजन को कम करने की कोशिश करें. 
  • स्लीप एपनिया का इलाज भी जरूरी होता है. इसके लिए वायुमार्ग दबाव उपकरण का उपयोग किया जा सकता है. इससे वायुमार्ग में हवा का प्रवाह बना रहेगा.
  • तनाव व चिंता की वजह से थकान महसूस होती है, तो एंटीडिप्रेसेंट दवा ली जा सकती है. 
  • इन सभी के अलावा योगमेडिटेशन और एक्सरसाइज भी करें, लेकिन हैवी एक्सरसाइज करने से बचें.
  • हेल्दी डाइट लें, जिसमें प्रोटीन, हेल्दी फैट्स और कार्ब्स जरूर शामिल करें. 

(और पढ़ें - सुस्ती दूर करने के घरेलू उपाय)

महिला हो या पुरुष अगर किसी को भी थकान की समस्या है, तो उसे Sprowt Vitamin-B12 की डोज दी जा सकती है. यह आयुर्वेदिक दवा है, जिस कारण से इसे लेने पर कोई साइड इफेक्ट नहीं होता है -

तनाव, नींद की कमी, थायराइड, हृदय रोग आदि स्थितियां महिलाओं में थकान का कारण बन सकती हैं. ये स्थितियां महिलाओं में सामान्य से लेकर गंभीर थकान पैदा कर सकती हैं. थकान महिलाओं के दैनिक जीवन को प्रभावित कर सकती है. इसलिए, अगर कोई महिला लंबे समय से थका हुआ महसूस कर रही है, तो डॉक्टर से जरूर संपर्क करना चाहिए. थकान का इलाज इसके कारण पर ही निर्भर करता है. 

(और पढ़ें - सडन एक्सट्रीम फटीग का इलाज)

Dr. Sameer Arora

Dr. Sameer Arora

न्यूरोलॉजी
10 वर्षों का अनुभव

Dr. Khursheed Kazmi

Dr. Khursheed Kazmi

न्यूरोलॉजी
10 वर्षों का अनुभव

Dr. Muthukani S

Dr. Muthukani S

न्यूरोलॉजी
4 वर्षों का अनुभव

Dr. Abhishek Juneja

Dr. Abhishek Juneja

न्यूरोलॉजी
12 वर्षों का अनुभव

ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ