• हिं
  • हिं

हर महिला चाहती है कि उसके बाल मोटे, लम्बे और चमकदार दिखें। व्यस्क से बूढ़े तक सभी अपने बालों से प्यार करते हैं क्योंकि बाल ही हमारे चेहरे की रौनक को बढ़ाते हैं।

(और पढ़ें - लंबे और घने बाल)

चमकदार बालों के साथ साथ हर कोई लम्बे और मजबूत बाल रखना चाहता है। लेकिन आजकल हर कोई बालों के झड़ने की समस्या से परेशान है। व्यस्त जीवन शैली, प्रदूषण और ऐसे उत्पाद जो आपके बालों को ख़राब करते हैं आदि बाल झड़ने के कारण होते हैं। अगर आप लम्बे बालों की समस्या के लिए प्रभावी, सुरक्षित और आसान तरीका अपनाना चाहते हैं तो ये लेख आपकी बहुत मदद करने वाला है।

तो यहाँ आपको बालों को लंबा करने के घरेलू उपाय बताये गए हैं -

  1. बालों को जल्दी लम्बा करने के उपाय - Baal badhane ka tarika
  2. बालों को लंबा करने के टिप्स - Balo ko lamba karne ka tarika
  3. बाल बढ़ाने के घरेलू उपाय - Baal lambe karne ka tarika

करी पत्ता

सामग्री

  1. ताजी करी पत्तों की एक मुट्ठी। (और पढ़ें - कढ़ी पत्ते के फायदे)
  2. 1/2 कप नारियल का तेल।

विधि

करी पत्तियों को तेल में मिलाएं और उसे गर्म करें और तब तक करें जब तक पत्तियां काली न हो जाएँ।

ये प्रक्रिया करते समय ध्यान रखें।

  1. जब पत्तियां काली पड़ जाएँ तो उसमे तेल को निकाल दें।
  2. अब तेल ठंडा होने के लिए रख दें और फिर उसे छान लें।
  3. अब इसे अपनी जड़ों और बालों में लगाएं और कुछ मिनट तक मसाज करें।
  4. फिर इसे अपने बालों में कुछ घंटों के लिए लगा हुआ छोड़ दें और फिर बालों को हमेशा की तरह धो लें।
  5. बचे हुए तेल को किसी डब्बे में बंद करके रख दें।

करी पत्ता का इस्तेमाल कब तक करें

इसका उपयोग हफ्ते में दो बार ज़रूर करें।

करी पत्ता के फायदे

करी पत्ता बालों का विकास बढ़ाता है और सफ़ेद होने से भी बचाता है। ये फास्फोरस, लोहा, कैल्शियम, विटामिन ए और विटामिन सी से समृद्ध होता है।

(और पढ़ें - तैलीय बालों के घरेलू उपाय और तैलीय बालों के लिए शैम्पू)

बालों को झड़ने से रोकने और उन्हें काला, घना, मजबूत बनाने के लिए myUpchar Ayurveda Kesh Art Bhringraj Hair Oil का उपयोग करें -
myUpchar Ayurveda Kesh Art Hair Oil
₹765  ₹850  10% छूट
खरीदें

जड़ी बूटियां

रोस्मेरी, कटनिप, बिच्छू बूटी, होर्सेटाइल और कपूर के पत्ते जैसी जड़ी बूटियां बालों के विकास में तेज़ी लाते हैं। रोस्मेरी विशेष रूप से बाल विकास के लिए सबसे अच्छी जड़ी बूटी मानी जाती है क्यूंकि यह बालों के कूपों(follicles) को बढ़ने के लिए बढ़ावा देता है और बालों की जड़ों को मजबूत करता है। इसके अलावा ग्रीन टी के उत्तेजक गुण भी बालों को बढ़ाने में मदद करते हैं। इसके अलावा, अधिकांश जड़ी-बूटियां रक्तसंचार को बढ़ाती है और बालों के विकास में बढ़ोतरी करती हैं।

गर्म पानी में इनमें से किसी भी जड़ी-बूटियों को 10 से 20 मिनट तक रखें। हर्बल पेस्ट को तैयार करें। शैंपूंग और अपने बालों को कंडीशनिंग करने के बाद इसे आखिर में प्रयोग करें। बाल को बढ़ाने के अलावा, इससे आपके बाल मजबूत होंगे और मुलायम भी बनेंगे।

आप अपने शैम्पू में जड़ी बूटियां या आवश्यक तेलों को भी मिला सकते हैं। बालों को बढ़ाने के लिए हर्बल चाय पियें। 

(और पढ़ें - बाल लंबे करने का शैम्पू)

बालों को झड़ने से रोकने और हेयर रिग्रोथ के लिए Sprowt DHT Blocker का उपयोग करें -
Sprowt DHT Blocker Plant-Based Natural Hair Growth Promoter Capsules
₹629  ₹699  10% छूट
खरीदें

अंडे

अंडे बाल विकास के लिए बेहद फायदेमंद होते हैं क्यूंकि अंडो में प्रोटीन, लोहा, सल्फर, फास्फोरस, जस्ता और सेलेनियम पाया जाता है। आप महीने में एक बार कम से कम एक अंडे का पेस्ट बालों में ज़रूर लगाएं।

अंडे को फोड़ लें। अब उसमे ग्रेपसीड का तेल मिलाएं और कुछ बूँदें लैवेंडर तेल की मिलाएं। इसे अपने बालों और जड़ों में लगाएं और आधे घंटे तक छोड़ दें। आखिर में हमेशा की तरह अपने बालों को शैम्पू से धोलें।

दो अंडे की जर्दी और दो चम्मच जैतून का तेल मिलाकर अपने बालों और जड़ों में लगाएं। इसे 15 से 20 मिनट तक छोड़ दें और फिर फिर अपने बाल शैंपू से धोलें।

वैकल्पिक रूप से, एक अंडे में एक कप दूध, जैतून के तेल के दो बड़े चम्मच और आधा नींबू का रस जोड़ें। इस मिश्रण को अपने सिर पर लगाएं और धोने से पहले 20 से 30 मिनट के लिए इसे छोड़ दें और फिर अपने बालों को शैम्पू से धोलें।

(और पढ़ें - अंडे के फायदे)

तनाव से रहे दूर

तनाव बालों के झड़ने के सबसे महत्वपूर्ण कारकों में से एक है। ऐसा माना जाता है कि तनाव सामान्य बाल चक्र को रोकता है जिससे की बाल झड़ने और कमज़ोर होने लगते हैं। इस प्रकार, अगर आप अपने बालों में तेज़ी से विकास चाहते हैं तो अपने जीवन में तनाव को कम करें। तनाव को अगर कम करना चाहते हैं तो आप मैडिटेशन, श्वास व्यायाम या कई और तरह की तकनीक अपना सकते हैं जिससे आपके बालों का टूटना कम हो। इसके अलावा कोशिश करें कि आप पूरी नींद लें क्यूंकि इससे आपके होर्मोनेस में कमी नहीं आएगी और बालों का विकास जल्दी हो सकेगा। 

(और पढ़ें - तनाव के लक्षण और इलाज)

तनाव को कम करने के लिए या उससे बचने के लिए myUpchar Ayurveda Manamrit का सेवन करें -
myUpchar Ayurveda Manamrit Brain Revitalizer Capsule
₹899  ₹999  10% छूट
खरीदें

सिर की मालिश

बालों में मालिश करने से रक्त का प्रवाह बढ़ता है जिससे बालों के कूपों (follicles) को बढ़ने में मदद मिलती है। इसके साथ ही अपने बालों को गरम तेल के साथ सप्ताह में एक बार कंडीशनिंग ज़रूर करें। अपने बालों में तेल (गुनगुना तेल) या कंडीशनर लगाएं। धीरे से अपनी उंगलियों को सिर पर चक्कर गति से तीन से पांच मिनट तक घुमाएं। अपने बालों को उसके बाद धोलें। 

(और पढ़ें - बालों के लिए किस हेयर आयल का इस्तेमाल करें)

अरंडी का तेल

विटामिन ई और आवश्यक फैटी एसिड से समृद्ध होने के कारण, विशेष रूप से ओमेगा -9 फैटी एसिड, अरंडी का तेल प्राकृतिक रूप से बालों को बढ़ाता है। जैसा कि यह तेल काफी चिपचिपा है, अरंडी के तेल को बराबर मात्रा में नारियल, जैतून या बादाम के तेल के साथ मिलाएं। इसे बालों की जड़ों में लगाएं और 30 से 45 मिनट तक छोड़ दें फिर अपने बालों को शैम्पू से धोएं। आप कुछ और आवश्यक तेल जैसे पेपरमिंट, नीलगिरी, लैवेंडर, या अजवायन के तेल को अरंडी के तेल के साथ मिलाकर अपने बालों में लगा सकते हैं। 

(और पढ़ें - बालों को बढ़ाने का तेल)

बालों को झड़ने से रोकने और डैंड्रफ से छुटकारा पाने के लिए myUpchar Ayurveda Kesh Art Bhringraj Hair Cleanser का उपयोग करें -
myUpchar Ayurveda Kesh Art Hair Cleanser
₹494  ₹549  10% छूट
खरीदें

स्वस्थ आहार

प्रोटीन, विटामिन और खनिजों से समृद्ध आहार को खाएं इनसे आपके बाल स्वस्थ रहेंगे और बालों का विकास भी जल्दी होगा। ऐसे खाद्य पदार्थो को चुनें जिनमें विटामिन ए, विटामिन बी, विटामिन सी, विटामिन ई, लोहा, जस्ता, तांबा, मैग्नीशियम, और सेलेनियम उपलब्ध हो इन सभी से आपके बालों को जल्दी बढ़ने में मदद मिलेगी और बाल मजबूत भी होंगे। तो अपने आहार में लें दूध, पनीर, दही, चिकन, अंडे, साबुत अनाज, पालक, ब्रोकोली, फूलगोभी, अंगूर, ब्राउन ब्रेड, ओट्स जैसे विभिन्न खाद्य पदार्थ जो आपके बालों और जड़ों को मजबूत बनाएंगे। इसके अलावा, ताजे फल और सब्जी के रस भी पिए जैसे मौसमी, अंगूर, गाजर, चुकंदर। ओमेगा -3 फैटी एसिड से समृद्ध मछली, अखरोट, सेम, जैतून का तेल और अन्य खाद्य भी बाल विकास के लिए अच्छे हैं क्योंकि लगभग 3% बालों की जड़ें ओमेगा -3 फैटी एसिड से बनी हैं। पोषण संबंधी कमियों से बचें क्योंकि वे आपके बालों को प्रभावित करती हैं जैसे विटामिन ई और जस्ता की कमी के कारण बाल पतले और टूटने लगते हैं। 

(और पढ़ें - बालों को झड़ने से रोकने के लिए आहार)

एलो वेरा

सामग्री

  1. एक एलो वेरा। (और पढ़ें - एलोवेरा के फायदे)

विधि

  1. सबसे पहले एलो वेरा को काटें और फिर उसे खोलें। खोलने के बाद उसमे से जेल को एक कटोरी में निकाल लें।
  2. अब इस जेल को अपनी जड़ों और बालों में लगाएं।
  3. इसे लगाकर कुछ घंटों के लिए बैठ जाएँ। फिर अपने बालों को शैम्पू से धो लें।  

एलो वेरा का इस्तेमाल कब तक करें

इस प्रक्रिया को हफ्ते में दो या तीन बार ज़रूर करें।

एलो वेरा के फायदे

एलो वेरा जेल में मौजूद प्रोटीयोलाइटिक एंजाइम जड़ों के मृत सेल को ठीक करता है और बालों की रोम को उत्तेजित करने में मदद करता है। एलो पोषक तत्वों से भरा होता है। उसमे बालों को बढ़ाने और हाइड्रेट करने के गुण होते हैं।

(और पढ़ें - रूखे बालों के लिए शैम्पू)

जिनसेंग

सामग्री

  1. 1 बड़ा चम्मच लाल जीनसेंज जड़ी बूटी। (और पढ़ें - जिनसेंग के फायदे)
  2. 1 कप जैतून का तेल या नारियल के तेल

विधि

  1. जिनसेंग के जूस को जैतून का तेल या नारियल के तेल में मिला दें।
  2. अब इस तेल को अपनी जड़ों और बालों में लगाएं और कुछ मिनट तक मसाज करें।
  3. आधा घंटा ऐसे लगा हुआ छोड़ने के बाद बालों को शैम्पू से धो लें।

जिनसेंग का इस्तेमाल कब तक करें

इसे हफ्ते में एक बार ज़रूर लगाएं।

जिनसेंग के फायदे

जिनसेंग एक चाइनीस जड़ी बूटी है। कई एक्सपेरिमेंट्स करने के बाद ये साबित हुआ कि ये जड़ी बूटी बालों को बढ़ाती है और हॉर्मोन में भी सुधार करती है।

(और पढ़ें - उलझे बालों के घरेलू उपाय)

गुड़हल

सामग्री

  1. 2 गुड़हल फूल। (और पढ़ें - गुड़हल के फायदे)
  2. 2 चम्मच नारियल तेल या तिल का तेल।

विधि

  1. सबसे पहले फूलों को पानी में धो लें।
  2. अब पेस्ट बनाने के लिए गुड़हल के फूलों को नारियल के तेल और तिल के तेल के साथ मिला दें।
  3. अब इस पेस्ट को अपने बालों में लगाएं और आधे घंटे के लिए इसे ऐसे ही लगा हुआ छोड़ दें।
  4. अब अपने बालों को शैम्पू से धो लें।
  5. गुड़हल के पत्तों को बालों को बढ़ाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।
  6. आप फूल की जगह तीन से चार पत्तियों का इस्तेमाल कर सकते हैं।

गुड़हल का इस्तेमाल कब तक करें

अपने बालों को धोने से पहले इस पेस्ट का इस्तेमाल आप आधा घंटा पहले कर सकते हैं।

गुड़हल के फायदे

गुड़हल को वास्तव में "फ्लावर ऑफ़ हेयर केयर" कहा जाता है। इस फूल का उपयोग हर्बल दवा के तौर पर रूसी के इलाज और बालों को बढ़ाने के लिए किया जाता है। इसमें विटामिन सी, साफ़ करने के गुण मौजूद होते हैं जो इसे बालों के लिए इतना प्रभावी बनाते हैं।

(और पढ़ें - क्षतिग्रस्त बालों के लिए घरेलू उपाय)

चिया बीज

सामग्री

  1. 1 चम्मच चिया बीज। (और पढ़ें - चिया के बीज के फायदे)
  2. 1/4 कप बादाम का दूध या नारियल का दूध।

विधि

  1. दूध में चिया बीज को दस मिनट तक भिगोकर रखें।
  2. अब इसे अपनी जड़ों में लगाएं और दस मिनट तक ऐसे ही लगा हुआ छोड़ दें।
  3. अब इसे शैम्पू से धो लें।
  4. आप एक ग्लास पानी में एक चम्मच चिया बीज को दस मिनट तक भिगोकर रख सकते हैं और फिर उसे खा लें।
  5. आप इसे रोज़ाना के आहार में भी शामिल कर सकते हैं।

चिया बीज का इस्तेमाल कब तक करें

चिया बीज के हेयर मास्क को 10 से 12 दिन में एक बार ज़रूर लगाएं।

चिया बीज के फायदे

भीगे हुए चिया बीज में जेल होता है जो जड़ों और बालों को हाइड्रेटेड रखता है। इसमें ओमेगा -3 फैटी एसिड होता है जो सूजन को दूर करता है और जड़ों को स्वस्थ रखता है। चिया बीज में एंटीऑक्सीडेंट के गुण भी मौजूद होते हैं जो परिसंचरण और बालों को बढ़ाते हैं।

(और पढ़ें - चेहरे से बाल हटाने के घरेलू उपाय)

डैंड्रफ से छुटकारा पाने के लिए myUpchar Ayurveda Kesh Art Anti-Dandruff Shampoo का उपयोग करें -
myUpchar Ayurveda Kesh Art Anti-Dandruff Shampoo
₹494  ₹549  10% छूट
खरीदें

आलू का जूस

सामग्री

  1. एक आलू। (और पढ़ें - आलू के फायदे)

विधि

  1. अब आलू को छील लें और आलू के टुकड़ों का जूस निकाल लें।
  2. अब इस जूस को जड़ों में 15 मिनट के लिए लगाकर रखें।
  3. अब अपने बालों को धोने के लिए शैम्पू का इस्तेमाल करें।

आलू के जूस का इस्तेमाल कब तक करें

जब भी आप आपने बालों को धोने वाले हो तो इस जूस को पहले लगालें।

आलू के जूस के फायदे

ज़्यादातर लोगों को आलू के जूस के फायदों के बारे में नहीं पता। आलू विटामिन ए, बी और सी से समृद्ध होता है। ये बालों को मजबूत और स्वस्थ बनाने में मदद करता है। ये उपाय तब भी लाभदायक होगा जब आप अलोपेसिया यानी पतले बालों की समस्या से जूझ रहे होंगे।

(और पढ़ें - दो मुंहे बालों के उपाए)

कॉफी

सामग्री

  1. 7-8 चम्मच कॉफी। (और पढ़ें - कॉफी पीने के फायदे)
  2. 2 कप पानी।
  3. शॉवर कैप।
  4. शैम्पू।
  5. गर्म पानी।

विधि

  1. ऊपर दी गयी मात्रा और सामग्री के अनुसार कॉफी को गर्म करके काढ़ा बना लें।
  2. अब कॉफी को ठंडा होने दें।
  3. ठंडा होते समय आप अपने बालों को पहले धो लें।
  4. अगर ठंडी कॉफी में पानी ज़्यादा है तो उसे निकाल दें और फिर उसे अपनी जड़ों और बालों में लगाएं।
  5. अब अपने बालों को एक या दो मिनट तक मसाज करें और सिर को शावर कैप से ढक लें।
  6. फिर अपने बालों को आधा घंटे बाद गर्म पानी से धो लें।
  7. फिर अपने बालों को बिना किसी उपकरण के सूखने दें।

कॉफी का इस्तेमाल कब तक करें

अच्छा परिणाम पाने के लिए इसका इस्तेमाल हफ्ते में एक बार ज़रूर करें।

कॉफी के फायदे

कॉफी में कैफीन होता है जो बालों के विकास में सुधार के लिए मॉलिक्युलर और सेलुलर स्तर पर कार्य करता है। ये उत्पादन की क्रिया को बढ़ाता है जिससे बालों का विकास और उनमे सुधार होने लगता है। अलोपेसिया मरीज भी बालों को बढ़ाने के लिए कैफीन का इस्तेमाल करता है।

सावधानियां

कॉफी आपके बालों में धब्बे छोड़ सकता है। ये उनके लिए अच्छा है जिनके बाल बेहद काले हैं। जिन लोगो के बालों का रंग हल्का है जैसे सुनहरे बाल, तो आप अन्य घरेलू उपाय का इस्तेमाल कर सकते हैं।

(और पढ़ें - रूखे बालों का घरेलू उपाय)

हल्दी

सामग्री

  1. 3-4 चम्मच हल्दी पाउडर। (और पढ़ें - हल्दी के फायदे)
  2. 1 कप कच्चा दूध।
  3. 2 चमच शहद।

विधि

  1. तीन चम्मच दूध में एक चम्मच हल्दी पाउडर और शहद मिलाएं।
  2. अब इस पेस्ट को अपनी जड़ों और बालों में लगाएं।
  3. अब आधे घंटे के लिए इसे ऐसे ही लगा हुआ छोड़ दें।
  4. फिर अपने बालों को शैम्पू से धो लें।

हल्दी का इस्तेमाल कब तक करें

इस पेस्ट को हफ्ते में एक या दो बार ज़रूर लगाएं।

हल्दी के फायदे

हल्दी में कर्क्यूमिन पाया जाता है जो जड़ों और बालों के लिए बेहद फायदेमंद होता है। ये जड़ों के संक्रमण और ख़राब त्वचा कोशिकाओं और बालों के रोमों का इलाज करता है। इसमें एंटीऑक्सिडेंट, एंटीसेप्टिक और सूजनरोधी गुण होते हैं।

(और पढ़ें - बाल झड़ने से रोकने के घरेलू उपाय)

अमरुद की पत्तियां

सामग्री

  1. अमरूद की एक मुट्ठी भर पत्तियां। (और पढ़ें - अमरूद के पत्तों के लाभ)
  2. 1 लीटर पानी।
  3. शैम्पू।
  4. गुनगुना पानी।

विधि

  1. 20 मिनट के लिए अमरूद के पत्तों को पानी में उबाल लें और फिर पानी को छान लें।
  2. फिर अपने बालों को शैम्पू से धोये और उन्हें सूखने दें।
  3. जब ये अच्छे से सूख जाये तो अमरुद की पत्तियों को जड़ों और बालों में रगड़ें।
  4. फिर अपने बालों में कुछ मिनट तक मसाज करें और दो स तीन घंटे इसे ऐसे ही रहने दें।
  5. फिर अपने बालों को धोने के लिए गुनगुने पानी का इस्तेमाल करें।

अमरुद की पत्तियों का इस्तेमाल कब तक करें

इसका इस्तेमाल हफ्ते में एक बार ज़रूर करें।

अमरुद की पत्तियों के फायदे

अमरुद की पत्तियों में सूजनरोधी और एंटीऑक्सिडेंट्स गुण होते हैं। यह बालों की रोम को ठीक करता है और बालों के विकास को सुधारता है। अमरुद की पत्तियों में एंटीमाइक्रोबियल गुण होते हैं जो जड़ों में संक्रमण का इलाज करते हैं जिनकी वजह से आपके बालों का विकास रुक रहा होता है।

(और पढ़ें - रूसी हटाने के घरेलू उपाय)

अदरक

सामग्री

  1. अदरक। (और पढ़ें - अदरक के लाभ)

विधि

  1. अदरक को सबसे पहले छीलें और उसे मिक्सर में पीसने के लिए डाल दें।
  2. अब पिसे अदरक को अपनी जड़ों में वहा रगड़ें जहां बाल कम हो।
  3. फिर इसे आधे घंटे के लिए ऐसे ही लगा हुआ छोड़ दें।
  4. हमेशा की तरह फिर अपने बालों को शैम्पू से धो लें।

अदरक का इस्तेमाल कब तक करें

अदरक का इस्तेमाल हफ्ते में दो बार ज़रूर करें।

अदरक के फायदे

अदरक जड़ों में रक्त परिसंचरण को सुधारता है। इसके परिणामस्वरूप, जड़ें स्वस्थ रहती हैं और बालों का विकास भी अच्छे से होता है। इसमें मौजूद तेल और एंजाइम बालों और बालों की रोम को बचाते हैं।

चावल का पानी

सामग्री

  1. आधा कप चावल (कोई भी)। ( और पढ़ें - चावल के पानी के फायदे)
  2. 2 कप पानी।

विधि

  1. 15 मिनट के लिए पानी में चावल भिगोकर रखें।
  2. अब पानी से चावलों को निकाल दें और पानी को अपनी जड़ों और बालों में लगाएं।
  3. चावलों का पानी लगाने के बाद कुछ मिनट तक अपने बालों में मसाज करें और फिर अपने बालों को धो लें।
  4. फिर अपने बालों को शैम्पू से धो लें।

चावल का पानी का इस्तेमाल कब तक करें

इस पानी का इस्तेमाल हफ्ते में दो बार ज़रूर करें।

चावल का पानी के फायदे

चावलों के पानी का लाभ त्वचा और बालों के लिए बेहद फायदेमंद होता है। इसमें विटामिन ई, विटामिन k और विटामिन बी 6 और प्रोटीन मौजूद होता है जो जड़ों और बालों को पोषण देने में मदद करता है। इससे आपके बालों का विकास होता है और बाल घने होते हैं।

सेब का सिरके

सामग्री

  1. 75 मिलीलीटर सेब साइडर सिरका। (और पढ़ें - सेब के सिरके के फायदे)
  2. 1 लीटर पानी।

विधि

  1. अपने बालों को शैम्पू से धोएं।
  2. अब सेब के सिरके को पानी में मिलाएं।
  3. बालों को शैम्पू से धोने के बाद एक कप इस मिश्रण से भी आखिर में अपने बालों को धोएं।

सेब के सिरके का इस्तेमाल कब तक करें

जब भी आप अपने बालों को धोएं आखिर में सेब के सिरके के मिश्रण का इस्तेमाल ज़रूर करें।

सेब के सिरके के फायदे

सेब का सिरका आपकी जड़ों को साफ़ करता है, बालों का PH स्तर संतुलित रखता है और उन्हें तेज़ी से बढ़ाने में भी मदद करता है।

शहद

सामग्री

  1. 1 चम्मच शहद। (और पढ़ें - शहद के गुण)
  2. 2 बड़ा चम्मच शैम्पू।

विधि

  1. अपने शैम्पू के साथ शहद मिलाएं और बालों को इससे धोएं।

शहद का इस्तेमाल कब तक करें

इसे हफ्ते में दो बार ज़रूर लगाएं।

शहद के फायदे

शहद के पौष्टिक और हाइड्रेटिंग गुण बालों की रोम को मजबूत करते हैं। शहद में एंटीऑक्सिडेंट्स होते हैं नुकसान पहुंचाने वाले कणों को दूर करते हैं जिनकी वजह से आपकी जड़ों को नुकसान पहुंच रहा होता है।

बालों को झड़ने से रोकने और उन्हें चमकदार मुलायम बनाने के लिए myUpchar Ayurveda Kesh Art Anti-Hairfall Shampoo का उपयोग करें -
myUpchar Ayurveda Kesh Art Anti-Hairfall Shampoo
₹494  ₹549  10% छूट
खरीदें

नारियल का दूध

सामग्री

  1. 1/4 - 1/2 कप नारियल का दूध।

विधि

  1. आर्गेनिक नारियल का दूध लें और उसे अपनी जड़ों में लगाएं।
  2. रातभर इसे अपने बालों में लगाकर रखें।
  3. सुबह को अपने बालों को ठंडे पानी से धो लें।

नारियल का दूध का इस्तेमाल कब तक करें

जब भी आप अपने बालों को धोने वाले हो इसे रात में अपने बालों में लगा लें।

नारियल का दूध के फायदे

नारियल के दूध में प्रोटीन, लोहा, और अन्य आवश्यक पोषक मौजूद होते हैं जो बालों को बढ़ाते हैं और टूटने से रोकते हैं।

 (और पढ़ें - नारियल के दूध के फायदे)

दही

सामग्री

  1. 1 कप सादा दही। (और पढ़ें - स्वास्थ्य के लिए दही के फायदे)
  2. शॉवर कैप।

विधि

  1. अपने बालों के हिस्से कर लें और जड़ों में अच्छे से दही को लगाएं।
  2. दही को अच्छे से लगाने के बाद अपने बालों बाँध लें और और ढकने के लिए शावर कैप का इस्तेमाल करें।
  3. आपके बालों से दही टपककर कपड़ों पर गिर सकता है लेकिन शावर कैप से सिर को ढकने से आप इस परेशानी से बचे रहेंगे।
  4. आधे घंटे के लिए बालों में दही को लगाकर रखें।
  5. फिर अपने बालों को शैम्पू से धो लें।

दही का इस्तेमाल कब तक करें

इस प्रक्रिया को हफ्ते में एक बार ज़रूर करें।

दही के फायदे

दही में मौजूद एसिड बालों की रोम को खोलता है और जड़ों में मौजूद मैल को साफ़ करता है। ये आपकी जड़ों का PH स्तर वापस लौटाने में भी मदद करता है। अगर आप अपने बालों में किसी भी संक्रमण से परेशान हैं तो दही का इस्तेमाल ज़रूर करें। दही में मौजूद वसा जड़ों और बालों को पोषण देते हैं और उन्हें हाइड्रेटेड रखते हैं।

सरसों का पाउडर

सामग्री

  1. 1 बड़ा चमचा सरसों का पाउडर।
  2. 1 चम्मच चीनी।
  3. 1/4 कप गर्म पानी।

विधि

  1. गर्म पानी में सरसों का पाउडर और चीनी मिलाएं।
  2. अब इस मिश्रण को अपनी जड़ों में लगाएं।
  3. अब इस मिश्रण को बालों में 15-60 मिनट के लिए लगा हुआ छोड़ दें।
  4. अब अपने बालों को धोने के लिए शैम्पू का इस्तेमाल करें।
  5. रूखे बालों के लिए इस पेस्ट में कोई भी एक चम्मच तेल को मिला लें।
  6. तेलिये और डैंड्रफ वाले बालों के लिए एक चम्मच नींबू का जूस मिलाकर इस्तेमाल करें।
  7. हर तरह के बालों के लिए आप अंडे का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

सरसों का पाउडर का इस्तेमाल कब तक करें

इस मिश्रण को हफ्ते में एक बार ज़रूर लगाएं।

सरसों का पाउडर के फायदे

सरसो परिसंचरण को बढ़ाता है और बालों की रोम की सूजन को दूर करता है।

(और पढ़ें - सफेद बालों के घरेलू उपाय)

आंवला पाउडर

सामग्री

  1. 2 चम्मच आंवला पाउडर या आंवले का रस। (और पढ़ें - आंवला के गुण)
  2. 2 चम्मच नींबू का रस।

विधि

  1. आंवला पाउडर या इसके जूस को नींबू के जूस के साथ मिला दें।
  2. अब इस मिश्रण को अपनी जड़ों में लगाएं और कुछ देर सूखने के लिए रख दें।
  3. सूखने के बाद अपने बालों को गुनगुने पानी से धो लें।

आंवला पाउडर का इस्तेमाल कब तक करें

महीने में एक बार आप आंवला को अपने बालों में लगा सकते हैं।

आंवला पाउडर के फायदे

आंवला में एंटीऑक्सीडेंट और विटामिन सी पाया जाता है। ये बालों को बढ़ाने में मदद करता है बालों की पिगमेंटेशन को सुधारता है।

(और पढ़ें - रूखे बालों के लिए तेल)

हिना

सामग्री

  1. 1 कप हिना पाउडर। (और पढ़ें - हिना के फायदे)
  2. 1/2 कप दही।

विधि

  1. पैक बनाने के लिए दही में हीना पाउडर को बालों के अनुसार मिला लें।
  2. अब इस अच्छे से मिलाने के बाद इस पैक को अपने बालों में जड़ से छोर तक लगाएं।
  3. बालों में पैक को अच्छे से सूखने दें।
  4. सूखने के बाद अपने बालों को शैम्पू से धोएं।

हीना का इस्तेमाल कब तक करें

महीने में एक बार हिना पैक को बालों में ज़रूर लगाएं।

हीना के फायदे

हिना एक प्राकृतिक कंडीशनर के रूप में काम करती है और रूखें और बेजान बालों को चमकदार और कोमल बालों में बदल देती है। इससे आपके बालों को एक सुंदर रंग भी मिलता है। ये जड़ों को मजबूत करने में मदद करती है।

(और पढ़ें - बालों की देखभाल के तरीके)

ग्रीन टी

सामग्री

  1. 1 ग्रीन टी बैग। (और पढ़ें - ग्रीन टी के लाभ)
  2. 2 कप गर्म पानी।

विधि

  1. 7-8 मिनट के लिए गर्म पानी में ग्रीन टी बैग को डालकर रखें।
  2. अब ग्रीन टी को गुनगुना होने के बाद अपनी जड़ों में रूई से लगाएं।
  3. आधे घंटे के लिए इसे ऐसे ही लागग हुआ छोड़ दें।
  4. फिर अपने बालों को ठंडे पानी से धो लें।

ग्रीन टी का इस्तेमाल कब तक करें

जब भी आप अपने बालों को धोने वाले हों उससे आधा घंटा पहले आप अपने बालों में इसे लगा सकते हैं।

ग्रीन टी के फायदे

ग्रीन टी एंटीऑक्सीडेंट से समृद्ध होता है जो बालों के झड़ने से रोकने और बालों को बढ़ाने में मदद करता है। अन्य हर्बल टी का इस्तेमाल भी आप इसी तरह कर सकते हैं। उनके लाभ भी आपको इसी तरह प्राप्त होंगे। टी से बालों को धोने का इस्तेमाल कई लोगों ने किया है और उन्होंने एक अच्छा परिणाम भी पाया है। अन्य टी जिनका इस्तेमाल आप कर सकते हैं जैसे बैम्बू टी, बिच्छू बूटी टी, सेज टी और आप रोज़ाना पीने वाली काली चाय का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। गर्म पानी में टी बैग, चम्मच या सूखे हर्ब को डालकर इनका प्रयोग ऊपर बताई गयी प्रक्रिया की तरह कर सकते हैं।

प्याज का जूस

सामग्री

  1. 2 लाल प्याज। (और पढ़ें - प्याज के फायदे)
  2. रूई।

विधि

  1. सबसे पहले प्याज को छल लें और उसे टुकड़ों में काट लें।
  2. अब प्याज के टुकड़ों को मिक्सर में पीस लें और पिसे हुए प्याज का जूस निकाल लें।
  3. अब प्याज के जूस में रूई डालें और फिर रूई को अपनी जड़ों में लगा लें पर 15 मिनट के लिए ऐसे ही लगा हुआ छोड़ दें।
  4. फिर आखिर में अपनी बालों को शैम्पू से धो लें।

प्याज के जूस का इस्तेमाल कब तक करें

अच्छा परिणाम पाने के लिए प्याज के जूस को अपनी जड़ों में एक हफ्ते तक ज़रूर लगाएं।

प्याज के जूस के फायदे

प्याज के जूस में सल्फर मौजूद होता है जो उत्तकों में कोलेजन के उत्पादन को बढ़ाता है और बालों को बढ़ाने में मदद करता है। यह बालों के विकास के लिए सबसे पुराना और सबसे प्रभावी घरेलू उपायों में से एक है।

(और पढ़ें - बालों के लिए प्याज का रस)

विटामिन्स

एक उचित आहार खाने के अलावा, आप आहार पूरक (सप्लीमेंट्स) भी ले सकते हैं जैसे कि फोलिक एसिड, बायोटिन, केल्प, मछली का तेल, अलसी का तेल (फ्लेक्स सीड आयल), इवनिंग प्रिमरोज ऑयल, जिनसेंग, जिन्को बिलोवा, पाल्मेटो। इनसे आपके बालों के विकास में वृद्धि होगी। फोलिक एसिड और बायोटिन बी-कॉम्प्लेक्स विटामिन (क्रमशः विटामिन बी 9 और बी 7) हैं जो बालों के तेज़ विकास में सहायता करते हैं। हालांकि, कोई भी सप्लीमेंट्स लेने से पहले कोशिश करें कि आप अपने डॉक्टर से परामर्श कर लें। 

(और पढ़ें - विटामिन के फायदे)


बाल बढ़ाने के उपाय सम्बंधित चित्र

संदर्भ

  1. Gyeong-Hun Park et al. Red Ginseng Extract Promotes the Hair Growth in Cultured Human Hair Follicles . J Med Food. 2015 Mar 1; 18(3): 354–362. PMID: 25396716
  2. Nan-nan Zhang, Dong Ki Park, Hye-Jin Park. Hair growth-promoting activity of hot water extract of Thuja orientalis . BMC Complement Altern Med. 2013; 13: 9. PMID: 23305186
  3. Mun Su Chung et al. An Asian traditional herbal complex containing Houttuynia cordata Thunb, Perilla frutescens Var. acuta and green tea stimulates hair growth in mice . BMC Complement Altern Med. 2017; 17: 515. PMID: 29197368
  4. Maria Fernanda Reis Gavazzoni Dias. Hair Cosmetics: An Overview . Int J Trichology. 2015 Jan-Mar; 7(1): 2–15. PMID: 25878443
  5. B Satheesha Nayak et al. A Study on Scalp Hair Health and Hair Care Practices among Malaysian Medical Students. Int J Trichology. 2017 Apr-Jun; 9(2): 58–62. PMID: 28839388
  6. Abdel Naser Zaid et al. Ethnopharmacological survey of home remedies used for treatment of hair and scalp and their methods of preparation in the West Bank-Palestine . BMC Complement Altern Med. 2017; 17: 355. PMID: 28679382
  7. E.B.C. Lima et al. Cocos nucifera (L.) (Arecaceae): A phytochemical and pharmacological review . Braz J Med Biol Res. 2015 Nov; 48(11): 953–964. PMID: 26292222
ऐप पर पढ़ें